YOU ARE HERE  Home > Blogs >

बढ़ा है कलेक्शन, हो सकता है मिल जाये कड़े कदमो से राहत

GST DOST's BLOG

मार्च में जीएसटी टैक्स कलेक्शन बढ़ गया है। ये करीब 90000 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है। डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन भी 17 फीसदी बढ़ गया है तो इनकम टैक्स और कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन में भी इजाफा हुआ है। इसके अलावा राहत की बात यह है कि सरकार राजस्व घाटा के लक्ष्य को पूरा करने में कामयाब रही है। मार्च में डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन 17.1 फीसदी बढ़कर 9.95 लाख करोड़ रुपये रहा है। वहीं वित्त वर्ष 2018 में इनकम टैक्स कलेक्शन 18.9 फीसदी और कॉरपोरेट टैक्स कलेक्शन 17.1 फीसदी बढ़ा है। साथ ही साथ लोगो में टैक्स कंप्लायंस को लेकर जागरूकता भी बढ़ी है और इसका उदहारण यह भी है की लोगो ने विगत वर्षो की अपेक्षा बहुत अधिक संख्या में इनकम टैक्स का रिटर्न भी फाइल किया है |

उधर 1 अप्रैल से लागू हुए ई-वे बिल पर केंद्रीय वित्त सचिव हसमुख अढ़िया ने कहा कि सरकार ने कामयाबी के साथ ई-वे बिल को लागू किया है। इसके लागू होकर तीन दिन होने के बाद अब तक कोई भी शिकायत नहीं आई है। उन्होंने ये भी कहा कि कंप्लायंस बढ़ने से जीएसटी कलेक्शन बढ़ा है।

लिहाजा जो अंदेशा जताया जा रहा था कि टैक्स कलेक्शन घटने से बेहद कड़ेकदम उठाये जा सकते हैं उसमें थोड़ी राहत मिल सकती है।

ई-वे बिल केलागू हो जाने के बाद हालात में कैसे परिवर्तन आ रहे हैं, आप अपने विचारों से हमें अवगत जरूर करायें।

 

 

Search